First election during corona Pandemics in Bihar | बिहार विधानसभा चुनाव 2020: कैसा रहेगा कोरोना काल में पहला चुनाव?


नई दिल्ली: लोकतंत्र के लिए मतदान वाला दिन सबसे बड़े त्यौहार की तरह होता है और चुनावी मौसम किसी त्यौहारी मौसम सा. बात जब बिहार (Bihar) की हो, तो इस त्यौहारी मौसम में बड़ी बड़ी रैलियां होती हैं. रोडशो निकलते हैं. गांवों में लाउडस्पीकर से मुनादी कराई जाती है. बड़े से बड़े नेता भी मतदाताओं के पैर छूते नजर आते हैं. यानि कि  चुनावी मौसम में वो सबकुछ होता है, जिसके बारे में आम दिनों में कोई सोच भी नहीं पाता. जिन नेताओं के चक्कर किसी काम के लिए कई बार काटने पड़ते हैं, वो नेता त्यौहारी मौसम में मतदाताओं के सामने नतमस्तक नजर आता है. लेकिन अब जबकि कोरोना महामारी का काल चल रहा है. सबकुछ ठप है. किसी भी इलाके में एक केस सामने आते ही पूरा का पूरा मोहल्ला अपने घरों में कैद हो जाता है, सोचिए, इस बार वहां चुनाव कैसे होंगे? इस मौसम में जब दो लोग आपस में बात करते हुए भी घबराते हों, उस हाल में चुनाव प्रचार किस तरह का होगा? आइए, चुनाव आयोग की गाइडलाइन्स (EC Guidelines) को ध्यान में रखते हुए हम आपको बताते हैं कि इस बार बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) किस तरह से होगा.

इस बार नहीं होगा रैलियों का शोर
पटना का गांधी मैदान (Gandhi Maidan) हो या बक्सर का रामलीला मैदान. अबतक हर चुनाव में बड़ी बड़ी चुनावी रैलियां होती रही हैं. पिछले चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने पटना के गांधी मैदान में काफी बड़ी चुनावी रैली को संबोधित किया था. वहीं, नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव ने भी कई बड़ी चुनावी रैलियों को संबोधित किया था. जबकि तेजस्वी यादव, उपेंद्र कुशवाहा, चिराग पासवान जैसे नेताओं ने बड़े रोड शो करने के साथ ही कई चुनावी रैलियां की थी. लेकिन इस बार का चुनाव प्रचार फीका रहने वाला है. क्योंकि चुनाव आयोग ने प्रचार के लिए गाइडलाइन्स जारी की है. नए नियमों मुताबिक इस बार चुनावी रैलियां नहीं होंगी. हां, वर्चुअल रैलियों की इजाजत होगी. लेकिन बिहार में उस तरह का आधारभूत ढांचा अभी विकसित नहीं हुआ है कि सभी दल अपनी बातों को जनता के पास पहुंचा सके. इस व्यवस्था का सबसे बड़ा नुकसान उन दलों को उठाना पड़ेगा, जिनके वोटर कम पढ़े लिखे हैं और तकनीकी की दुनिया से अनजान हैं. वहीं, सत्ताधारी पार्टी जेडीयू और बीजेपी को इसका फायदा होता दिख रहा है.

कोरोना संकट को देखते हुए चुनाव कराने में चुनाव आयोग के सामने कई चुनौतियां होंगी. इसलिए चुनाव आयोग ने वोटिंग के लिए नए मानक तय किए हैं. 

कोरोना काल में ऐसे होगा मतदान 
1.
पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की संख्या को घटाया जाएगा. इस बार हर बूथ पर 1 हजार ही मतदात होंगे
2. मतदान का समय बढ़ाया गया है. वोटिंग सुबह 7 बजे से शुरू होकर शाम 6 बजे तक चलेगी
3. वोट देने के लिए कोरोना संक्रमित मरीज भी जा सकेंगे, उनका वोट अंतिम समय में डाला जा सकेगा
4. प्रचार प्रसार के लिए बड़ी बड़ी रैलियां नहीं हो सकेंगी, 5 से ज्यादा लोग घर जाकर प्रचार नहीं कर सकेंगे
5. नामांकन भरने एक साथ केवल दो व्यक्ति ही जा सकेंगे, नामांकन को ऑनलाइन भी भरा जा सकता है

ये तो रहे चुनावों के लिए नए पैमाने अब बात उन सुरक्षा उपायों की जो वोटिंग के दौरान बरती जाएगी

मतदाता को ऐसे मिलेगी कोरोना से सुरक्षा
1.
बिहार विधानसभा चुनावों के लिए 6 लाख पीपीई किटों का इंतजाम होगा.
2. चुनाव में 46 लाख मास्क का इस्तेमाल किया जाएगा
3. 7 लाख हैंड सैनेटाइजर्स का इस्तेमाल होगा, जो हर बूथ पर रखा जाएगा
4. ड्यूटी के दौरान तैनात लोगों को 6 लाख फेस शील्ड मुहैया कराई जाएगी.
5. चुनाव कर्मियों के लिए 23 लाख ग्लव्स भी मुहैया कराए जाएंगे

तीन चरणों में होंगे चुनाव
बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में कराए जाएंगे. पहले चरण में 71 सीटों पर मतदान होंगे, 16 जिलों में वोटिंग होंगी और इसमें  31 हजार पोलिंग स्टेशन होंगे. दूसरे चरण में 94 सीटों पर मतदान होगा और कुल 17 जिलों में वोटिंग होगी. इस चरण में 42 हजार पोलिंग स्टेशन होंगे. तीसरे चरण में 78 सीटों पर मतदान होंगे. इस चरण में 15 जिलों में वोटिंग होगी. इसमें 33.5 हजार पोलिंग स्टेशन शामिल होंगे. आपको बता दें कि पहले चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर को होगी, और 10 नवंबर को इलेक्शन के नतीजे आ जाएंगे.





Source link

Related Articles

Bru Rehabilitation Subject Police Firing On Protesters In Tripura Many Injured – ब्रू शरणार्थी पुनर्वास मामला: त्रिपुरा में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने की गोलीबारी,...

उत्तरी त्रिपुरा जिले के पानीसागर में असम-अगरतला राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में...

tarun gogoi: ​आसामचे माजी मुख्यमंत्री तरुण गोगोई व्हेंटिलेटरवर, प्रकृती आणखी बिघडली​ – well being of tarun gogoi is going crucial

गुवाहाटीः आसामचे माजी मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ( tarun gogoi ) यांची प्रकृती आणखी खालावली आहे. त्यांना गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज व रुग्णालयात व्हेंटिलेटरवर ठेवण्यात...

Kerala governor OKs debatable ordinance to give protection to girls | India Information

THIRUVANANTHAPURAM: Kerala governor Arif Mohammed Khan has signed the controversial Kerala Police Act amendment ordinance, which the government claimed was intended...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

20,764FansLike
2,443FollowersFollow
16,800SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

Bru Rehabilitation Subject Police Firing On Protesters In Tripura Many Injured – ब्रू शरणार्थी पुनर्वास मामला: त्रिपुरा में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने की गोलीबारी,...

उत्तरी त्रिपुरा जिले के पानीसागर में असम-अगरतला राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में...

tarun gogoi: ​आसामचे माजी मुख्यमंत्री तरुण गोगोई व्हेंटिलेटरवर, प्रकृती आणखी बिघडली​ – well being of tarun gogoi is going crucial

गुवाहाटीः आसामचे माजी मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ( tarun gogoi ) यांची प्रकृती आणखी खालावली आहे. त्यांना गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज व रुग्णालयात व्हेंटिलेटरवर ठेवण्यात...

Kerala governor OKs debatable ordinance to give protection to girls | India Information

THIRUVANANTHAPURAM: Kerala governor Arif Mohammed Khan has signed the controversial Kerala Police Act amendment ordinance, which the government claimed was intended...

Meerut: Courtroom Sentenced To Lifestyles Imprisonment For Molesting A Hundred 12 months Outdated Lady In Meerut – 100 साल की बुजुर्ग महिला से दुष्कर्म...

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मेरठ Updated Sun, 22 Nov 2020 12:44 AM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹299...

G20 Leaders Pledge To Fund Truthful Distribution Of COVID-19 Vaccines

<!-- -->Washington: Leaders of the world's 20 biggest economies on Sunday will pledge to pay for a fair distribution of COVID-19 vaccines, drugs...